banner

CORONAJIHAD:अब जिहाद का नया तरीका


दोस्तों  दिल्ली के निज़ामुद्दीन क्षेत्र में तब्लीगी जमात द्वारा आयोजित धार्मिक मण्डली भारत में कोरोनोवायरस का सुपर स्प्रेडर बन गया है। आज हम बात  करेंगे तबलीगी जमात के बारे में जिसके कई लोग कई मस्जिदों से अलग अलग देश के अलग-अलग हिस्सों से पकड़े गए जैसे पटना है रांची है मेरठ अहमद नगर लखनऊ दो-तीन लखनऊ दो-तीन मस्जिद से और सभी को coronavisrus से सक्रमित पाया गया है 13 तारीख को जब दिल्ली सरकार ने बता दिया कि हमें घरों से बाहर नहीं निकलने 200 लोगों से ज्यादा की भीड़ नहीं  होनी चाहिए उसके बाद भी इनका इस्तेमाल मरकज पर जोड़े निजामुद्दीन निजामुद्दीन में चलता रहा और अभी आलम यह है कि वहां से निकलने वाले कई लोग पॉजिटिव पाए गए मेरठ से निकले हैं



  मार्च के पहले सप्ताह में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न हिस्सों में लगभग 10 मौतों का पता लगाया जा सकता है;  कई अन्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए |  सऊदी अरब, इंडोनेशिया और मलेशिया सहित 2,000 से अधिक लोग हुए  जहां कोविद -19 पहले ही फैल चुके था ,वे  इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

तबलीगी जमात है क्या भारत में क्यों आई :-

तबलीगी जमात का इतिहास 100 साल पहले का है मेवात में यह शुरू हुई थी और पाकिस्तान में ये जमात बहुत बड़े सत्तर पर कार्य कर रही हैं और वही  से बाकि देशो में इसका संचालन करती है | इस जमात का जो मुख्य काम है  वह कन्वर्जन करना यानी कि धर्म परिवर्तन करना अगर आप कभी जाएंगे देखेंगे या इनके विचारों को पढ़ेंगे तो उसमें यही यही बात कहते हैं कि जो अपने यह मुख्य काम है जो ये कहते हैं  वह हैं  " दावा " और  दावे का मतलब है किसी को आमंत्रित करना इंग्लिश में इनविटेशन देना किसी non-muslim को यह इनविटेशन देना उसको यह अमन इसलिए आमंत्रित देना उसको यह अमन इसलिए आमंत्रित इसलिए आमंत्रित करना कि वह मुस्लिम धर्म में आए और इसे स्वीकार कर ले |


इमेज क्रेडिट - Wikimedia Commons
image credit :google


आपको पता होगा यह जो तबलीगी जमात है यह यह भारत में इतनी ताकतवर नहीं रही है इसका प्रचलन अभी हुआ है जब से भारत में 370 धारा हटी है तब से यह सक्रिय हुआ है यह जमात भारत में इसलिए पॉपुलर नहीं हुई इसलिए प्रसिद्ध नहीं हुई क्योंकि इस जमात का जो काम था वह पहले से ही इसके सम्मान कुछ एक संगठन है जो भारत में कर रहे थे तो इसका काम कर रहे थे उदाहरण के लिए जैसे धर्म परिवर्तन का काम जाकिर नायक जैसे लोग  जो की भारत में लोगो को धर्म के नाम पर बहला-फुसला कर उनका धर्म परिवर्तन करवाने का काम किया |

निज़ामुद्दीन की तब्लीग़ी जमात कोरोना फैलाने में सबसे आगे |


दिल्ली के तब्लीगी जमात  बड़ा कोरोनोवायरस सुपर स्प्रेडर बन गया है, लेकिन फिर भी इसके समर्थक  इस बात से बेपरवाह हैं कि उन्होंने इस देश के हर कानून को तोड़ा है, जो वे लॉकडाउन के खिलाफ नफरत फैला रहे हैं और उन्होंने अपने अनुयायियों को सब कुछ करने के लिए कहा है राष्ट्रीय लॉकडाउन की अवहेलना और पराजित करना संभव है और इस मिनट के रूप में कम से कम और  इस शब्द को कम से कम 118 कोरोनोवायरस सकारात्मक मामलों को रेखांकित किया है जो अकेले इस इस्लामिक मण्डली से आते हैं इस इस्लामी मण्डली ने कम से कम 3000 कोरोना के सभी लोगों को प्रभावित किया है जो टूट गए हैं लॉकडाउन और उन सभी लोगों को, जिन्होंने 16 अहम देशों के मुस्लिम मौलवियों की एक मंडली में अहमद मार्कस की सभा में भाग लिया, उनमें से कई लोग कोरोनोवायरस से प्रभावित थे
CORONAJIHAAD:अब CORONA VIRUS जिहाद, जिहाद का नया तरीका
इमेज क्रेडिट - Wikimedia Commons


 19 राज्यों में ये लोग एक साथ आए और न केवल यह कि उन्होंने लॉकडाउन को तोड़ दिया, बल्कि उन्होंने वास्तव में अपने अनुयायियों को हर जगह तोड़ने के लिए कहा। लॉकडाउन आप विश्वास कर सकते हैं कि यह इस समूह के नेताओं को देखने के लिए रिकॉर्ड पर भी गया था एक लॉकडाउन के तर्क को उन्होंने हमारे राष्ट्रीय प्रयास का मज़ाक बना दिया और वे धार्मिक शिक्षाओं का उपयोग करते हैं 

मार्काज़ लॉकडाउन उल्लंघन: कैसे एक समूह जोखिम से बाहर हो सकता है:-

उनकी कुछ ऑडियो टेप भी सोशल मिडिया पर वायरल हो रही है  उनको सुना कर अंदाजा लगाया जा सकता है कि वे धार्मिक शिक्षाओं का उपयोग करते हुए दावा करते हैं कि नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित लॉकडाउन को उन्हें पराजित करने की आवश्यकता है भारत सरकार द्वारा घोषित लॉकडाउन का कोई मतलब नहीं है कि ये खतरनाक लोग हैं इन लॉकडाउन शीटों में उन्होंने हमसे समझौता किया है हम सब जीत रहे थे जब उन्होंने हमें हराने के लिए सब कुछ किया था और अब हम लॉकडाउन को हरा देंगे


उनकी इस हरकत पर असदुद्दीन ओवैसी जैसे मानवो ने अपनी चुप्पी क्यों साध रखी है वो क्यों नहीं बोल रहा आज आज उसकी देशभक्ति खा चली गई  | आज अन्य मुस्लिम संगठनो ने क्यू इस पर चुपी साध ली है आखिर ये क्या लोग चाहते है  ये सवाल सोचने का विषय है |

मोदी सरकार के lockdwon को सफल बनाने में मजबूत कदम उठाना  चाहिए और  जो कि मार्केज़ जैसे समूहों को सबक सिखाने के लिए कठोर कदम उठाने चाहिए, और इस संस्थानों को जहां से फण्ड मिलता है उसकी जांच होने चाहिए और ऐसे सघठनों को बेन करना चाहिए और  वित्तीय आधार देने वालो पर  भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिए और अब उन्हें भारतीय लोकतंत्र का दुरुपयोग नहीं करने देंगे |


आप को याद् होगा  भारत के लोगो को  शाहीन बग में से जो एम्बुलेंस को नहीं ले जाने देते थे भारत के पीड़ित नागरिकों को महीनों तक हमने ट्रैफिक जाम के कारण लोगों को मरते थे  और आज भी ये लोग फिर से अपने धर्म की आड़ में कुछ भोले लोगो को बहला-फुसला कर देश में कोरोना वायरस फैलने के लिए लगे है | लेकिन हम जीत सकते और हमें अब उन्हें अलग करने के लिए एक  प्रयास करना है।  ऐसी देश विरोधी तत्वों की सच्चाई को देश के सामने लाना है जिससे की ये आम जनता को मुर्ख न बना सकें | इसमें हम सबको मिलकर प्रयास करना है और लोगो को जागरूक करना है | मोदी सरकार के इस lockdwon को सफल बनाना है और सभी ने कोरोना के विरुद्ध लड़ाई लड़नी है | मोदी जी के इस प्रयास को सफल बनाना है |

देखे देश के किन-किन राज्यों से दिल्ली आए थे तबलीगी जमात के  लोग,जिनमे से कई  कोरोना संक्रमित


दिल्ली की घटना से कुछ दिन पहले, तब्लीगी जमात ने मलेशिया के सेल्ज़ोर में श्री पेटलिंग मस्जिद में एक बड़ी सभा का आयोजन किया।  27 फरवरी से 1 मार्च तक आयोजित इस कार्यक्रम में कनाडा, नाइजीरिया, भारत, चीन, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया, ब्रुनेई और ऑस्ट्रेलिया के 1,500 विदेशियों सहित लगभग 16,000 लोग शामिल हुए।
CORONAJIHAAD:अब CORONA VIRUS जिहाद, जिहाद का नया तरीका
इमेज क्रेडिट - Wikimedia Commons


30 मार्च तक, कुल 1,290 लोग जो मण्डली में आए थे, उन्होंने कोविद -19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया है।  यह मलेशिया में दर्ज किए गए कुल कोविद -19 मामलों का 49.2 प्रतिशत है।  यह संख्या बढ़ सकती है क्योंकि कई परीक्षा परिणाम अभी भी पेंडिंग लिस्ट में है



अगर आपको आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करे | धन्यवाद

चाइना ने coronavirus को किस तरह से रोका ?

CORONAVIRUS :भारतीय संस्कृति और आयुर्वेद में बचाव के ठोस प्रमाण









Post a Comment

0 Comments