शौर्य गुप्ता की सफलता की कहानी !!! Success story of shorya gupta !!

 हेलो मैं  हिमांशी  आज मैं आपको एक ऐसे लड़के के बारे में बताने जा  रही  हूं. जिसने  दिन रात मेहनत करके  कम ही समय में  अच्छा खासा पैसा और अपना एक बिजनेस खड़ा कर लिया तो यह जानते हैं उस शख्स के बारे में आइए स्टार्ट करते हैं.

नाम- शौर्य गुप्ता

 प्रोफेशन- जॉब खबरी. कॉम(फाउंडर)

 स्थान- नोएडा

                               

शौर्य गुप्ता की सफलता की कहानी !!! Success story of shorya gupta !!

शोर्य के घर में 3 लोग रहते थे  उनके भाई, उनकी मां  और वह खुद. उनके पिताजी नहीं थे  जब शौर्य छोटे थे जब उनके पिताजी की  मृत्यु हो गई. उनके पिताजी के जाने के बाद शौर्य की माता ने बहुत मुश्किल  से शौर्य और उनके भाई को पढ़ाया   लिखाया!  उनकी मां ने जब  वह स्कूल में पढ़ रहे थे  तो उनकी माता ने एक बात बोली थी कि मैं तुम्हें बहुत मुश्किल है उसे पढ़ा रही हूं  और आपको अपनी पढ़ाई या जो भी अपने करियर में  करना है  वह अपने बलबूते पे करना है . यह बात सुनने के बाद  शौर्य ने  सोच लिया था कि अपनी लाइफ में कुछ बड़ा करना है.


 1. आइए जानते हैं  जब शौर्य छोटे थे वह क्या बोलते थे-:


 वह हर रात अपनी माता और भाई के साथ एक बड़ी कंपनी के सामने जाते थे  और बोलते थे जिंदगी में इतना बड़ा आदमी बनना है कि मेरी खुद की कंपनी हो और मैं यह करके दिखाऊंगा. जब  शौर्य यह बोलते थे  दोनों का जोश बढ़ता था और वह हर रात बड़े-बड़े सपने देखने लगे  उन्होंने जैसे-तैसे अपनी  बारहवीं कक्षा खत्म करी.


2. आइए जानते हैं उन्होंने बारहवीं कक्षा के बाद क्या  करा-:

 एक दिन उनके घर के आगे एक गाड़ी वाले गाड़ी  खड़ी कर गया  उनकी माता काफी परेशान हुई  उनकी माता ने  उस गाड़ी वाले को  बहुत ढूंढा.  वह नहीं मिला  फिर वह गाड़ी वाला  5 घंटे के बाद आया  और उनकी माता ने उस गाड़ी वाले को एक थप्पड़ मारा. यह देख कर शौर्य के दिमाग में एक बात आई कि यह गाड़ी वाले ने जानबूझकर हमें परेशान करने की कोशिश की  या यह ऐसे ही  गाड़ी खड़ी करके चला गया. उन्होंने इस प्रॉब्लम को पकड़ा और इसका  सॉल्यूशन   खोजने लगे. उन्होंने सोल्यूशन खोजने के बाद एक नया  स्टार्ट अप स्टार्ट किया.


3.  आइए जानते  है  उस स्टार्टअप के बारे में-:

 उन्होंने काफी अच्छा और एक अलग तरीके का  स्टार्टअप स्टार्ट किया  उसका नाम था. बटन दबाओ गाड़ियां हटाओ. इसमें  एक यूज़र  बिना नंबर बदले या किसी को दिए बिना  वह बता सकता है कि आपकी गाड़ी यहां पर खड़ी है और मुझे काफी परेशानी हो रही है  और यह  देखकर  काफी लोग बहुत प्रसन्न हुए  बड़े-बड़े लोगों ने उनके तारीफें की. लेकिन शौर्य को यह पसंद नहीं आया क्योंकिइस स्टार्ट अप से  उनकी  कमाई नहीं हो रही थी.  उनको इसको चलाने के लिए कभी अपने दोस्तों से पैसे लेने पड़ते हैं या अपनी मां से  ऐसे कर कर के उन्होंने  थोड़े टाइम तक इसको चलाया  फिर एक वक्त  ऐसा आया उनको यह स्टार्टअप बंद करना पड़ा. इसके बाद उन्होंने कॉलेज के लिए  अप्लाई  करा और उनका वहां पर भी एडमिशन नहीं हुआ. यह देखकर उन्हें समझ नहीं आ रहा था अब करें तो क्या करें  वह काफी परेशान रहने लग गए थे.


4. आइए जानते हैं जो उनका  सिलेक्शन कॉलेज में नहीं हुआ तो छोरे ने क्या किया-:

अगले दिन जब शौर्य उठे. तब उनकी  माता ने बोला कि बेटा अब पढ़ाई तो है नहीं वह नौकरी ही कर लो.  यह सुनकर शौर्य जॉब ढूंढने निकल गए  उस वक्त शौर्य को  सीवी(रिज्यूम) नहीं पता था की क्या होता है. उन्होंने जैसे-तैसे इधर-उधर पूछ कर अपना  सीवी तैयार किया. उन्होंने 2 महीने के अंदर 40 से 50 इंटरव्यू दिए थे. वह  कहीं पर उनको  तनखा अच्छी नहीं मिलती  या काम अच्छा नहीं मिलता था. लेकिन एक दिन  उन्हें  एक कंपनी ने  एक काम दिया.


5.  आइए जानते हैं उस काम के बारे में-:

उस कंपनी ने शौर्य को रेफर करने का काम दिया. उस सफर में उनको ऐसे लोग ढूंढने थे. जो कि जॉब ढूंढ रहे हो. और उनको रेफर करने की पैसे मिलने थे. शौर्य को इसके बारे में कुछ भी नहीं पता था. शौर्य ने सोचा एक बार कोशिश करके देखता हूं उस वक्त  शौर्य के बैंक में  सिर्फ250  रुपए थे. उन्होंने उन पैसों को निकाला और टेंप्लेट  छपवाए. उन्होंने उस टेंपलेट को बस स्टैंड पर  बाटे, कहीं पर चिपकाए.  एक दिन  शौर्य के बड़े भाई को यह बात पता चल गई कि वह ऐसा कुछ टेंपलेट बांटने का काम कर रहा है. उस दिन शौर्य  के  भाई ने बुलाया और बोला यह काम छोड़ दे तू यह कोई अच्छा काम नहीं है यह बहुत ही घटिया काम है. उस वक्त  शौर्य के मन में आया  कि नहीं मेरे को अपने लिए कुछ करना है  उन्होंने अपने भाई के खिलाफ जाकर अगले दिन यह पेंपलेट वाला काम दोबारा स्टार्ट  करा. 


 एक दिन शौर्य को उस कंपनी से फोन आया और उस कंपनी के मैनेजर ने बोला  यही कि आपके रेफर से एक लड़के की जॉब लग गई है  और इस काम  के आपको 2500  रुपए मिलेंगे यह बात सुनकर  शौर्य काफी खुश हुए.  क्योंकि वह 2500  रुपए  उनके लिए लाखों के बराबर थे. उस वक्त  शौर्य के पास दो रास्ते थे. पहला रास्ता यह था कि वह खा पीकर पैसे बर्बाद कर दे या तो इस पैसे को बचा कर  लाखों बनाना.


6. आइए जानते हैं शौर्य ने जब दूसरा रास्ता  चुना-:

उन्होंने कंपनी में ₹500 का रजिस्ट्रेशन करवाया  और उन्होंने ऐसे ही एक छोटी सी कंपनी  शुरू  की  यह  एक ऐसी कंपनी थी  जो लोगों को जॉब के बारे में बताता है और उनसे कोई पैसा नहीं लेता उन्होंने यह काम स्टार्ट किया. उनको धीरे-धीरे इनकम आने लगी उसके बाद उन्होंने  एक एंप्लॉय हायर किया उन्हें यह तक नहीं पता था कि कैसे  एंप्लॉय को हायर करते हैं फिर भी उन्होंने किया. लेकिन थोड़े दिनों बाद  शौर्य को इनकम आना बंद हो गई. उन्होंने  उस  एंप्लॉय को बोला  मुझे माफ कर दो मेरे पास तुम्हें  देने के लिए पैसे नहीं है और मैं काफी शर्मिंदा  हुए. फिर उनकी मां ने उस एंप्लॉय को पैसे दिए और बोला  की  आज के बाद  तू घर से बाहर नहीं जाएगा. जब भी जाता है नुकसान करवाता है उन्होंने यह सुनकर  यह सोचा कि जब मैं कोई गलती होती है तो उसको सॉल्यूशन कैसे ढूंढा जाता है.


वह  काफी दिनों तक घर पर बैठे रहे और सोचते रहे कि मुझे अपने लिए कुछ ना कुछ करना है  मैं अगर हार के बैठ जाऊंगा तब मैं जिंदगी में कुछ नहीं कर पाऊंगा.


7.  आइए जानते हैं शौर्य ने उस दिन के बाद क्या करा-:

उन्होंने फिर से काम करना स्टार्ट करो अकेले बैठकर उन्होंने फिर कुछ पैसे कमाए.उन्होंने फिर लोगों को हायर करा.उन्होंने अपने घर वालों को बोला इस बार ऐसा कुछ नहीं होगा मुझे एक बार दोबारा करना है.उनका धीरे-धीरे काम चलना स्टार्ट हुआ थोड़े इनकम आने लगी.लेकिन उनका एक प्रिंसिपल था जो इस बिजनेस की बुनियाद थी,जो इस कंपनी का लक्ष्य था.वह लक्ष्य यह था कि जो भी लोग उनके पास आए जॉब के लिए उनसे पैसे नहीं लेने.थोड़े दिन बाद उनके एक एंप्लॉय ने उनका प्रिंसिपल तोड़ा.उसएंप्लॉय ने एक व्यक्ति से 500रुपए लिए.


जब यह बातशौर्य को पता चली उस वक्त शौर्य के पास दो रास्ते थे-:

पहला-:उसको माफ कर दो और आगे बढ़ो.

दूसरा-:मेरा प्रिंसिपल तोड़ा है निकाल दो और कंपनी बंद कर दो.


उन्होंने काफी सोचा लोगों से सलाह भी ली.लोगों ने कहा नहीं माफ कर दो.उन्होंने कहा नहीं यह मैंने ही शुरू करें मेरे को ही खत्म करना है.उन्होंने उस एंप्लॉयको निकाल दिया.और उस व्यक्ति को 500रुपए वापस करवाएं और कंपनी बंद कर दी.काफी टाइम तकशौर्य घर में बैठे रहे.उनकी हिम्मत नहीं हो रही थी.उनका अंदर का जोश खत्म हो रहा था धीरे-धीरे.

काफी सोचा उन्होंने और धीरे-धीरे दोबारा से थोड़ा-थोड़ा जोश आने लगा.उन्होंने सोचा यह मेरी लाइफ हैमुझे अपने लिए कुछ करना हैऔर एक बड़ा आदमी बन के दिखाना है.

उन्होंने दोबारा शुरू करा.दोबारा हिम्मत की.और फिर दोबारा कमाना चालू करो अकेले बैठकर और उनके लिए एक नई सीख थी.जो उनके साथ होता रहा वह कभी भूले नहीं उस चीज को उन्होंने सोचा इन गलतियों से क्या सही हो सकता है.उन्होंने फिर दोबारा दो एंप्लॉय को हायर करा.हम लोग क्या करते हैं जोश को जगाते हैं और काम करते हैं लेकिन जैसे ही काम फेल हो जाता है उस जोश को ठंडा कर देते हैं.लेकिन शौर्य ने ऐसा नहीं किया वह जोशजगाते गए और काम करते गए.उनका हर एक फेलियर उनको मोटिवेट करता गया.


8. आइए जानते हैं शौर्य की एक नई बात के बारे में-:

वह एक कंपनी में इंटरव्यू देने के लिए गए थे वह कंपनी काफी बड़ी थी.उनका वहां पर सलेक्शन हो गया था.कंपनी वालों ने सैलरी बता दी और ज्वाइन करवा दिया.लेकिन उनका यह कहना था कि आप बहुत सोचने वाले व्यक्ति हो(एंबिशियस) उन्होंने यह देख कर उनका दोबारा से इंटरव्यू लिया और दूसरे और तीसरे राउंड में उनको रिजेक्ट कर दिया.उन्होंने जॉइनिंग लेटर शौर्य के हाथ से वापस लिया और बोला आप जा सकते हो.जब है उस कंपनी से बाहर निकले उनकी आंखों में काफी आंसू थे टाइम ऐसे गुजरता गया.


कहीं ना कहीं जब शौर्य की तीन चार बार कंपनी शुरू हुई.तब शौर्य दोबारा उसी कंपनी में गए और उसी एचआर से मिले. उस एचआर(Hr) उनकोनहीं पहचाना. शौर्य ने उनको सारी चीजें बताइ और यह सुनकर उसने शौर्य को पहचाना और बोलो आप तो वही शौर्य गुप्ता हो.


शौर्य ने बोला-हां और फिर शौर्य ने अपना कार्ड दीया और बोला सर यह मेरी कंपनी है और यह मेरा काम है और मेरी कंपनी में 400 लोग घर बैठे बैठे काम कर रहे हैं.एक वक्त था जब शौर्य उस कंपनी से खाली हाथ निकले थे बिना ऑफर लेटर के और आंसू लेकर. और वह उस दिन उस कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट(contract) लेटर लेकर निकले थे.यह उनके लिए बहुत बड़ी बात थी.


9. आइए जानते हैं वह आजकल क्या कर रहे हैं-:

शौर्य आजकल लोगों को मोटिवेशन दे रहे हैं.लोगों को बताते हैं कि कैसे घर बैठे बिजनेस करें.उनको काफी अच्छी सलाह देते हैं.उनके बारे में हम दैनिक जैसे न्यूज़ पेपर में भी आया हुआ है.वह मार्केटिंग जॉब्स के बारे में बताते हैं और लाइव क्लास भी देते हैं.


अगर आप भी घर बैठे नेटवर्क मार्केटिंग से खुद का बिजनेस करना चाहते हैं तो मुझे मेरे इंस्टाग्राम पर फॉलो कीजिए. आपका जो भी प्रशन होगा आप मेरे से इंस्टाग्राम पर पूछ सकते हैं. अगर आप अपनी जिंदगी में कुछ करना चाहते हो तो आपको शौर्य जैसा आत्मविश्वास होना चाहिए.धन्यवाद


अगर आप ऐसे ही मोटिवेट होना चाहते हैं तो हमारे पहले वाले आर्टिकल को पढ़िए और हम से जुड़े रहिए हम ऐसे ही आपके लिए मोटिवेशन आत्मविश्वास जैसे आर्टिकल लाते रहेंगे जिससे कि आप मोटिवेट हो और अपनी जिंदगी में कुछ अच्छा करें.आपका दिन शुभ हो.

अन्य स्टोरी भी पढ़े :-

जाने महेंद्र दोगने की सफलता की कहानी !!कैसे बने एक सफल मोटिवेशनल टीचर !!success story




Post a Comment

0 Comments