Sunny Garg की Biography और Success Story !! Yourshell Startup CEO.

हेलो मैं हिमांशी आज मैं आपको  एक ऐसे   लड़के के बारे में बताने जा रही हूं जिसने कॉलेज के साथ-साथ पढ़ाई करके 20 दिनों में 7 लाख  कमा लिए तो आइए जानते हैं उन्होंने ऐसा क्या किया  जिससे उन्होंने  पैसे कमा लिए तो आइए स्टार्ट करते हैं-:

 नाम-  सनी  गर्ग

 उम्र-  23

 प्रोफेशन-  FOUNDER OF YOURSHELL.IN

  Sunny Garg education  (सनी गर्ग की शिक्षा ) :- 

 इनकी कॉलेज की शुरुआत एक एवरेज स्टूडेंट की तरह थी जिसमें जो कॉलेज चाहिए था उसमें  एडमिशन हुआ नहीं ,जिस सोसाइटी में रहना पसंद था वहां कभी रह नहीं पाए और जो लड़की पसंद थी वह मिली नहीं. जब छोटे थे तो हमेशा बिजनेसमैन बनने के बारे में सोचते थे. उनसे उनके टीचर को शादी की लाइफ में बड़ा होकर क्या बनना है तो उनके फ्रेंड्स काफी अलग तरीके का जवाब देते थे जैसे कि मैं एक्टर बनूंगा मैं क्रिकेटर बनूंगा लेकिन सन्नी हमेशा बोलते थे कि मैं बड़ा होकर बिजनेसमैन बनूंगा. 

Sunny Garg की Biography और  Success Story !! Yourshell Startup CEO.
12वीं के बाद उन्हें जिस कॉलेज में एडमिशन चाहिए था उसमें उनको मिला नहीं फिर वह रामजस कॉलेज में गए उन्होंने देखा वहां पर बहुत सारे आर्ट सोसाइटी के स्टूडेंट्स है. और उनके आसपास क्रिएटिव  लोग  थे. लेकिन  उन्हें  तो ऐसा कुछ आता नहीं था और ना ही पता था|  फिर उन्होंने देखा कॉलेज में  बिज़नस सोसाइटी भी है. उन्होंने उसके लिए ट्राई करा लेकिन उनका वहां पर भी नहीं हुआ फिर उन्हें  समझ आने लगा कि मैं यहां से संबंधित(belong) नहीं करता हूं एक  पल मैं उनको ऐसा  ख्याल  आया उन्होंने सोचा कि सब कुछ छोड़कर पापा के साथ काम करता हूं लेकिन यह ख्याल उनके दिमाग में कब आया और कब गया है कि उन्हें भी नहीं पता चला.


 फिर वो थोड़े दिन के बाद उसी कॉलेज के इवेंट में  बैठकर 1st  प्राइस रहते हुए नजर आए. उस टाइम बहुत कुछ सोच रहे थे कि अभी भी जिंदगी में बहुत कुछ करना बाकी है और मैं बहुत कुछ कर सकता हूं.  मुझे  इतनी  जल्दी हार नहीं माननी चाहिए. उन्होंने काफी कॉलेज  के इवेंट में भाग लिया और काफी में जीते भी और फाइनल लिस्ट भी रहे. यह सब  देखकर  सनी का टूटा हुआ  कॉन्फिडेंस  वापस आने लग रहा था जैसे  उन्होंने सोचा था बिजनेसमैन बनने का  जोश जागने लगा था.

आइए जानते हैं उन्होंने  अपने सपने को पूरा करने के लिए क्या किया -

उन्होंने अपने सीनियर से  बातें करी यूट्यूब पर वीडियो देखिए गूगल पर सर्च करो और यह सब देखने के बाद उन्हें यह समझ आ गई थी अगर बिजनेस करना है तो पहले आपको प्रॉब्लम को ढूंढना है(Finding a problem) और सुलझाना है(solve it) और फिर आगे उस पर काम  करके पैसा कमाना  है(later monetizing it).

वह कहीं ना कहीं अपॉर्चुनिटी को  कैश करना सीख गए थे लेकिन वह  मेजर प्रॉब्लम सॉल्व नहीं कर पा रहे थे. अगले दिन अपनी बुक्स और नोट उठाएं और निकल पड़े  लोगों की तलाश में  और उन्होंने अपने साथ कुछ लोग बिठाए और उनसे पूछा  आप मुझे अपनी प्रॉब्लम बताओ जिसे मैं सॉल्व कर सकूं और एक स्टार्टअप खोल सकूं उस बात पर.

आइए जानते हैं उन्हें कौन सी प्रॉब्लम मिली सॉल्व करने के लिए-

उनको सिर्फ दो ही प्रॉब्लम मिली पहली थी  गर्लफ्रेंड  बनाना और दूसरी  थी  पी. जी(p.g). उन्होंने पी. जी वाली प्रॉब्लम को पकड़ा  क्योंकि लोगों का बोलना  था जब भी कोइ  दिल्ली यूनिवर्सिटी आता है पढ़ने को तो उन्हें  पी. जी  ढूंढने में काफी दिक्कत होती है. सनी ने सोचा घर में कोई वेबसाइट बनाऊंगा तो मेरा टाइम वेस्ट होगा और सीजन निकल जाएगा क्योंकि 15 दिन ही बचे थे एडमिशन को तो उन्होंने हायर करें कुछ लोगो को बुलायाऔर  कुछ दोस्तों को  और पोस्टर छपवाए उसके बाद उन्होंने बात करी कुछ  पी. जी वालों से उन्होंने एक ट्रिक लगाई.

 आइए जानते हैं उस ट्रिक के बारे में- 

 उन्होंने लोगों के एडमिशन में हेल्प करनी  स्टार्ट कर दी क्योंकि काफी लोग दिल्ली के बाहर से आते थे जैसे कि जयपुर ,राजस्थान, अलवर, पंजाब अन्य अन्य जगह से आते थे. तो उन लोगों को कुछ नहीं पता होता था कि कागज को कहां से प्रिंट करवाना है कौन सा कॉलेज कहां पर पड़ेगा तो उन्होंने ऐसे करके हेल्प करनी स्टार्ट  कर दी क्योंकि ऐसे वह  लोग अपने आप ही पूछेंगे कि  पी. जी  कहां मिलेगा तो यह थी सनी की ट्रिक. !!
 
फिर उन्होंने 20 दिन में 2500  लोगों की मदद की  और 300  लोगों को  पी. जी  दिलवाए. और उनको 7.5 लाख  का मुनाफा हुआ. यह सब देखकर सनी ने सोचा अब मुझे आगे पढ़ाई नहीं करनी है मुझे नहीं करनी एमबीए उन्होंने ठान ली कि मुझे करना है बिजनेस लेकिन उस दिन के बाद उन्हें प्रॉब्लम  आना  चालू हो गई.

आइए जानते हैं उन्हें कौन सी प्रॉब्लम आनी  स्टार्ट हुई-

जैसे ही एडमिशन सीजन खत्म हुआ उनकी गाड़ी वही की वही आ  गई जहां वह पहले थे क्योंकि अगले 1 साल तक किसी को भी  पी. जी  की जरूरत नहीं थी फिर उनको थोड़े दिन बाद कुछ फोन  आने लगे और वह फोन  थे उन लोगों को  जिनको सनी ने  पी. जी  दिलवाया था और सनी को बहुत कुछ बोलने लगे क्योंकि जो पी. जी  के मालिक थे  उन्होंने पी. जी  देते समय कुछ वादे करे थे  जो  वह अब पूरा नहीं कर रहे थे. सनी ने  बात करने की कोशिश की  मालिकों से लेकिन वह नहीं माने.

 यह देखकर सनी को एक  बात समझ आ गई कि हमें  अच्छे  पी. जी  की जरूरत है सनी और उनके दोस्तों ने सोचा कि हमें अब  एक अच्छा सा  पी. जी  खोलना है. लेकिन जो लोग सनी के साथ थे  उनमें से ना ही किसी का  हॉस्पिटैलिटी  का बैकग्राउंड था  और ना ही किसी का  रियल एस्टेट और सनी खुद भी कभी  पी. जी में नहीं रहे थे. उन्होंने अपने  सी. ए(CA) से पूछा?

उनका सवाल था कि तुम्हें कितने बेड की जरूरत है और कितने पैसों की जरूरत पड़ेगी उन्होंने बताया पैसा अरेंज हो जाता है अगर बिजनेस आइडिया अच्छा हो वह यह सुनकर अपने दोस्तों के साथ वापस अपने घर गए उन्होंने  एक पैन लिया  और एक कॉपी  और  इन्वेस्टमेंट कैलकुलेट करना स्टार्ट कर.दिया

जब उन्होंने कैलकुलेट करा तो उनका अमाउंट  आया एक करोड़ फिर उन्होंने सोचा कि मेरे पेरेंट्स एक लाख भी मुझे नहीं दे सकते . फिर वह अगले दिन  वापस अपने  सीए(CA) के पास गए   सनी ने बताया की एक करोड़ लगेंगे तो उन्होंने बोला  ठीक है  सनी यह देख कर  काफी  हैरान हो गए  क्योंकि यह  बहुत  बड़ी  राशि थी.

तो आइए जानते हैं  सनी और उनके सीए(CA) ने  कैसे पैसों का  इंतजाम कैसे किया -

कुछ दिनों बाद सनी के सीए(CA) का फोन आया और उन्होंने सन्नी से पूछा कि आपको स्टैंड अप इंडिया स्कीम के बारे में पता है. सनी ने बोला हां सुना तो है  फिर उनके सीए ने बोला कि हम उनसे पैसा लेंगे और मैं आपको थोड़ी देर में एक लिस्ट भेज रहा हूं और वह लिस्ट 750  पी.जी की थी. तो सनी ने 1 महीने का टाइम मांगा  क्योंकि उसमें  बहुत सारे डॉक्यूमेंट  इकट्ठा करने थे.

डॉक्यूमेंट इकट्ठा करने के बाद अगला उनका काम था बैंक में जाकर अप्लाई करना. वह पहले एक सरकारी बैंक में गए. वहां पर बैंक वालों ने  टेबल टू टेबल  भेज कर  उनको ऐसे करते करते  वह कब  बहार आ गए उन्हें खुद नहीं पता चला और वहां पर उनका काम नहीं हुआ. ऐसे ही वो ट्राई करते करते हैं नोएडा के सरकारी बैंक में पहुंच गए जहां उन्हें एक  रिचा नाम की मैडम  मिली जिन्होंने उनका प्रोजेक्ट देखते ही बोला कि ठीक है मैं तुमको 35 लाख  दे दूंगी.

लेकिन यह सुनकर सनी को विश्वास नहीं हो रहा था कि कोई मुझको इतनी बड़ी राशि कैसे दे सकता है और उन्हें  जरूरत थी 1 करोड़ की  तो आगे से  रिचा  मैडम  ने बोला  कि 4 दिन बाद बैंक में सेरिमनी है आप वहां पर आ जाना आपको पैसे मिल जाएंगे फिर वह 4 दिन के बाद बैंक में पहुंच गए 40 मिनट  बाद उनका  और रिचा  मैडम का नाम  स्टेज पर बुलाया जाता है

और वहां पर वह 35 लाख  के बैंक  का  लेटर  देते हैं और बोलते हैं कि आपका स्टैंड अप इंडिया के द्वारा लोन पास हो गया है उस पल उनको यह रिलायंस हो गया था कि 35 लाख  आ गए 75 लाख  भी आ जाएंगे. अगले दिन से उन्होंने लोगों से बातें करी काफी लोगों से उधार मांगे और उन्होंने अपना बिजनेस स्टार्ट कर दिया.

आइए जानते हैं उन्हें कौन सी  दिक्कतों का सामना करना पड़ा-

उन्होंने 140  बैट्स(BEDS) से स्टार्ट  किया और उन्हें 3 साल में काफी दिक्कत आई जैसा उनको हर साल पैसों की दिक्कत आने लगी काफी लोगों ने उनको धमकाने की भी कोशिश की और कुछ लोगों ने गालियां भी दी बच्चों के काफी शिकायतें आने लगी. 1 दिन सनी के घर वालों ने उनको बोला कि हम लड़की वाले को क्या बताएंगे कि हमारा बेटा  पी. जी  चलाता है यह सुनकर उनको काफी बुरा लगा.

लेकिन वह  उत्साही  थे अपने  आइडिया को लेकर. वह 3 साल के अंदर  उन्होंने 600 बेड  तक पहुंच गए थे यह देखना उनके लिए काफी बड़ी बात थी. 3 साल में उनकी जिंदगी काफी बदल चुकी थी. उन्होंने अपने  पी. जी  के अंदर 600 बच्चों को रखा और उनके पैरंट्स(PARENTS) से बात करी.100 से ज्यादा लोग उनके पी.जी में काम कर रहे थे और जो उनका 3 साल का समय था.और sunny garg  net worth 20 करोड़ थी ! 

 Yourshell startup क्या  है ?

यह एक दिल्ली {एनसीआर }में प्रमुख छात्र आवास (leading student accommodation )ब्रांड हैं | इसकी स्थापना सन (2017)में दिल्ली के उत्तरी परिसर में [सनी गर्ग ,शेफाली जैन व गौरव वर्मा ]के द्वरा की गयी,यह भारत की[ Reconized startup ] योर्शेल {लोफ्टी वेंचर pvt Ltd }के द्वारा जोड़ी गयी हैं |इसकी सहायता से पीजी  कम मूल्य में आसानी से उपलब्ध [provide ]करवाया जाता है ,यह केवल 145 बेड से सुरु किया गया है 

CEO of yourshell startup -सनी गर्ग 

CO-founder of yourshell  startup -शेफाली जैन गौरव वर्मा 

योर्शेल  को  स्टैन्ज़ा लिविंग से 2019 में जोड़ा गया | 

वर्तमान में इसका हेडक्वार्टर {headquarter } दिल्ली{INDIA} में स्थापित है |

yoursehll  को  समर्थन देने वाली कम्पनीयाँ -[इंटरनेशनल ,फालकन एज कैपिटल सीकोइया इंडिया एक्सेल अल्टेरिआ ]

yourshell startup की सुविधाए -[एक पुस्तकालय {Library}गैमिंग जोन {gaming zone }करियर परामर्श सत्र इंटर्नशिप मार्ग दर्शन  आदि। मूल्य वर्धित सुविधाओं का सेट]

  जैसा कि आपने देखा  और पढा  सनी  ने कभी भी अपनी जिंदगी में  हार नहीं मानी जो उन्होंने सोचा उन्होंने वह करके दिखाया और आपको कुछ मिले ना मिले लेकिन आपको कभी भी हार नहीं माननी चाहिए और ना ही लोगों की बातों से डिमोटिवेट होना चाहिए. अगर आपने कोई सपना देखा है तो उसे  पूरा करने के लिए  जी जान से मेहनत लगा दो  और लोगों के बारे में  मत सोचो  कि कौन क्या कहेगा. आप अपना काम करते जाओ आगे बढ़ते जाओ.


अगर आप भी सनी की तरह बिजनेसमैन बनना चाहते हैं या ऐसी कोई अपॉर्चुनिटी की तलाश में है, तो आप मुझे मेरे इंस्टा पर मैसेज कर सकते हैं मैं आपको ऐसी अपॉर्चुनिटी देती रहूंगी.

अगर आपको सनी की स्टोरी से कुछ मोटिवेशन मिला है यह आप और मोटिवेट होना चाहते हैं तो हमारे पिछलेआर्टिकल को पढ़ें.

धन्यवाद

आपका दिन शुभ हो

Post a Comment

1 Comments

  1. So good news and event #divineinfo#thanks .... We hope u give them high quality knowledge

    ReplyDelete